मिर्गी के कारण – Epilepsy Causes in Hindi

मिर्गी से पीड़ित लोगों में से लगभग आधे मरीज़ों में किसी विशेष कारण की पहचान नहीं होती है। अन्य व्यक्तियों में विभिन्न कारकों के द्वारा हालात का पता लगाया जा सकता  है –

  1. जेनेटिक  प्रभाव – पीढ़ियों से चलते आ रहे मिर्गी के कुछ प्रकार, महसूस किये गए दौरों या मस्तिष्क के प्रभावित हिस्से द्वारा वर्गीकृत होते हैं। इन मामलों में संभावना है कि यह एक जेनेटिक प्रभाव होता है।
  2. सिर में चोट – एक कार दुर्घटना में या किसी अन्य घटना के कारण सिर में लगी चोट मिर्गी का कारण बन सकती है।
  3. मस्तिष्क की स्थिति – मस्तिष्क की स्थिति, जो उसे ब्रेन ट्यूमर या स्ट्रोक के रूप में क्षति पहुंचाती है, मिर्गी का कारण बन सकती है। 35 वर्ष से अधिक आयु वाले वयस्कों में स्ट्रोक मिर्गी का एक प्रमुख कारण है। (और पढ़ें – ब्रेन ट्यूमर कैसे होता है)
  4. संक्रामक रोग   संक्रामक रोग, जैसे – मेनिन्जाइटिस, एड्स और वायरल इन्सेफेलाइटिस, मिर्गी का कारण बन सकते हैं।
  5. जन्म के पूर्व की चोट –जन्म से पहले बच्चे मस्तिष्क की चोट के प्रति संवेदनशील होते हैं, जो कई कारणों से हो सकती है, जैसे – माँ को होने वाला संक्रमण, अल्प पोषण या ऑक्सीजन की कमी। इस मस्तिष्क की क्षति के कारण मिर्गी या मस्तिष्क पक्षाघात हो सकता है।
  6. विकास संबंधी विकार –मिर्गी कभी-कभी विकास संबंधी विकारों से जुड़ी हो सकती हैं, जैसे कि स्वलीनता और न्यूरोफाइब्रोमेटोसिस।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Call Now Button